Generation of Computer in Hindi (पूरी जानकारी)

आज के इस लेख में आप Generation of Computer in Hindi के बारे में details से जानेगे|

इस article की खास बात ये है,

यहाँ आपको हर generation के computer image के साथ समझाया गया है|

आप यहाँ कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer In Hindi) के बारे में भी जानेगे|

यहाँ आपको computer के generation से related exam में पूछे गए सभी सवालो का जवाब मिल जायेगे|

Let’s dive right in.

 

 Computer History in Hindi (Computer का इतिहास)

Abacus लगभग 5000 वर्ष पूर्व आया था जिसका आप image निचे देख सकते है| ये computer का शुरुवात था|

इसे ली काई चेन ने china में बनाये थे|

Ye mathematical calculation solve करने के लिए बनाया गया था आज “china”, “japan”, “Russia’ में इसका use हो रहा है|

1837 में Charles Babbage ने Computer की बनाये थे जिसका नाम Analytical Engine रखा गया था|

Image result for Analytical Engine

Analytical Engine एक mechanical computer है इसका वजन 13, 666 kg था|

 

     Charles Babbage को father of computer भी कहा जाता है|

Computer के history को अच्छे से समझने के लिए इसे 5 पीढ़ीओ में बता गया है|

आपको सभी पीढ़ियां की जानकारी निचे दिया गया है|

 

Generation of Computer in Hindi

Computer की 5 पीढ़ियां है|

1️⃣ First Generation     (1942-1955)

2️⃣ Second Generation (1955-1964)

3️⃣ Third Generation    (1964-1975)

4️⃣ Fourth Generation  (1995-1990)

5️⃣ Fifth Generation      (1990-अब तक)

 

First Generation (1940-1956) -Vacuum Tubes

First computer का generation 1946-1959 हुआ था जिसे J.P. Eckert और J.W. Mauchy ने बनाये थे|

First computer systems में circuitry के लिए vacuum tubes use किया जाता था और memory के लिए magnetic drums का use किया जाता था|

First generation computers में machine language का use होता था, ये lowest-level programming language है|

इसमें एक time में एक ही problem solve होती थी और इसमें data input punched cards और paper tape होता था और इसका result printouts से देखता जाता था|

Vacuum Tubes kya hai

Vacuum tubes क्या है?

Vacuum tube glass से बना होता है|

Vacuum tube में filaments का उपयोग कर के electrons को source के रूप में करता है.

Vacuum tube Computer में electronic signal को control करके रखता है| Vacuum tubes calculations के साथ storage का भी काम करता है|

 

सबसे पहला Computer का नाम ENIAC था, यह दुनिया का सबसे पहला General Purpose Fully Electronic Digital कम्प्यूटर था|

  • ये Computer 1,800 square में रखा जाता जाता था|
  • इसका वजन 30 tons था|
  • इसमें 18,000 Vacuum tube use होते थे|
  • इस Computer में 70,000 register use होते थे|
  • इस Computer में 10,000 capacitor use होते थे|
  • इससे चलने 150,000 W बिजली की जरूरत होती थी

 

First generation computer Examples:

  • ENIAC
  • EDVAC
  • UNIVAC

 

Advantages:

✔️ इसमें vacuum tubes का use होता था जिससे electronic component show होते थे

✔️ इस पीढ़ी के computers में milliseconds में calculation होता था |

 

Disadvantages:

❌ Computer का size बहुत बारे होता था (एक room के size जितना)

❌ Computer का weight 30 tones के बराबर होता था|

❌ इससे बहुत heat generate होता था जिसके लिए AC का use किया जाता था|

❌ इससे चलने के लिए बहुत ज्यादा electricity की जरूरत परती थी|


Second Generation (1956-1963) – Transistor

दूसरी पीढ़ी के computer का समय काल 1955 से 1964 तक था|

दूसरी पीढ़ी के computer में Vacuum Tubes की जगह Transistors का use होने लगा|

और software में assemble language और Mnemonics का use किया जाता था। इसमें scientific calculation किया जा सकता था|Transistor kya hai

ये दोनों assemble language है|

  • COBOL (Common Business Oriented Language)
  • FORTRAN (Formula Translation)

 

अगर आपको जानना है software क्या है और ये कैसे बनता है इसे सिखने के लिए क्या क्या आना चाहिए तो निचे दिए गए article को जरूर पढ़े|

 

इसमें memory के लिए Magnetic drum और magnetic tape का use होता था|

  • Magnetic core memory primary memory के लिए use होता था|
  • Magnetic drum and magnetic tape secondary memory के लिए use होता था|

 

इससे एक बारे फायदा हुआ,

Vacuum Tubes के मुकालबे transistor size में छोटा होते थे जिससे एक जगह से दुसरे जगह ले जाने में आसानी होती थी और ये पहली पीढ़ी के computer से ज्यादा fast होती थी|

Second generation Examples :

  1. Honeywell 400
  2. CDC 1604
  3. UNIVAC 1108

 

Second generation computer के गुण

🔘 दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों अधिक तेज एवं विश्वसनीय थे।

🔘 दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों का आकार छोटा होता था और ये ऊर्जा की कम खपत करते थे।

🔘 Vacuum Tube के स्थान पर Transistor का उपयोग किया जाता था।

🔘 दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में Memory के रूप में Magnetic Core का इस्तेमाल किया जाता था।

 

Advantages:

✔️ Transistors use होने के कारन इस पीढ़ी के computer size छोटे बनाने लगे|

✔️ इस computer से कम मात्रा में heat generation होता था|

✔️ इसमें Assembly language का use होता तह जो लोगो के लिए थोड़ा आसान हुआ|

✔️ इस पीढ़ी के computer के speed अच्छी होती थी|

✔️ 1st generation computer के मुकाबले storage capacity बढ़ी थी|

✔️ इसमें Operating microsecond में होता था|

 

Disadvantages:

❌ Heat कम करने के लिए इसमें भी cooling system use होता था

❌ इस पीढ़ी के computer को maintenance पर बहुत ख्याल रखना परता था|

❌ ये बस कुछ specific purposes के लिए use होता था|


Third Generation (1964-1971) – Integrated Circuits

Third generation computer 19651971 period में Robert Noyce और Jack Kilby का बड़ा योगदान रहा|

इस generation के computer में IC (Integrated circuits) का use होने लगा था|

IC kya hai?Integrated Circuits kya hai

IC बहुत छोटा device होता है जो semiconductor material का बना होता है.  सीमे बहुत सारे छोटे transistors का group होता है जिसे Silicon Chip के अंदर fit किया जाता है |

1st Integrated circuits 1950 में Jack Kilby ने आविष्कार किये थे|

IC से process की speed बहुत बढ़ गई जिसके कारन computer की काम करने की छमता बढ़ गया|

अब computer में “time sharing multi programming” और “operating system” का use होने लगा था|

इस computer generation में Computer use करने के लिए keyboard और mouse का use होने लगा|

Note: आज के computer जे जैसे keyboard आप देखते है पहले वैसा नहीं था पहले alphabet sequence में थे means (A, B, C, D) line में थे|

आज के keyboard (Q, W, E, R) से start होते है|

ऐसा इसलिए किया गया क्युकी शुरू में सही तरह से alphabets arrange होने के कारन लोग इतने speed में type करते थे की keyword बहुत बार ख़राब हो जाता था क्युकी लोगो को sequence याद रहता है|

लोगो को आसान से sequence याद न रहे और काम speed में type करे ये सोच कर keyboard के sequence Q, W, E, R change कर दिया गया भी use हो रहा है|

Fourth Generation Computer Examples:

  • PDP-11
  • ICL 2900
  • IBM 360

 

Third generation computer के गुण|

🔘 इस पीढ़ी के computer fast होती थी होती थी।

🔘 इस पीढ़ी के computer बहुत Portable बनाने लगे थे|

🔘 इस पीढ़ी के computer कम गर्मी उत्पन्न करते थे।

🔘 इस पीढ़ी के computer Electricity कम खपत करती थी|

 

Advantages:

✔️ इस generation में computer बहुत सस्ते हो गए और market में आने लगे थे|

✔️ IC के कारन computer का size भी छोटा हुआ साथ ही performance बहुत ज्यादा बढ़ गया|

✔️ इस generation में computer की storage capacity बहुत बढ़ गई|

✔️ punch cards के जड़ा mouse और keyboard use होने लगा|

✔️ इस generation में compute में operating system use होने लगा था|

✔️ Computers microseconds से nanoseconds जितना fast हो गया|

 

Disadvantages:

❌ IC chips को maintain करना आसान नहीं होता है|

❌ IC chips बनाने के लिए बहुत जटिल technology होता है|

❌ इससे भी cool रखने के लिए Air conditioning का use होता था|


Fourth Generation (1971-Present) – Microprocessor

Fourth generation computer का period 1971 से 1980 तक है और आज भी इस पीढ़ी के Computer का use होता है|

चौथी पीढ़ी के computer में Microprocessor का use होने लगा. Microprocessor ने computer के generation में क्रांति लाया|

और साथ में computer graphic का development हुआ जिससे computer user friendly बनाने लगा|

Microprocessor क्या होता है?Microprocessor kya hai

Micro Processor एक single chip है, Microprocessor में हज़ारो integrated circuits एक ही silicon chips में लगाकर Microprocessor बनाया जाता है|

IBM ने 1981 में पहला computer लाया जिसे आम लोग खरीद सकते थे|

इस generation के computer High level language को support करने लगा था . For example: C, C++

Fourth generation computer के गुण|
🔘 Computer में LSI और VLSI Integrated Circuit का use होने लगा|

🔘 DOS, Windows, UNIX तथा Apple OS operating system बने|

🔘 Computer connection लिए LAN, WAN network का विकास हुआ|

🔘 Magnetic disks, optical disk (CD, DVD), Blue-ray disk, flashes memory का use होने लगा|

🔘 इस पीढ़ी में E-mail, Internet का use होने लगा|

🔘 Computer user-friendly हो गया और web page बनाना शुरू हो गया|

Fourth generation computer Examples:
• IBM 4341
• DEC 10
• STAR 1000
• PUP 11

 

Advantages:

✔️ इस पीढ़ी के computer के maintenance पर खर्च काम होता है|

✔️ Size, cost, power requirement, heat generation ये सब कम हो गया|

✔️ Operating speed, storage capacity बहुत बढ़ गया|

 

Disadvantages:
❌ Microprocessor design करना जटिल होता है|

❌ बहुत से computer version में Air conditioning लगाना जरुरी था

❌ ICs बनाने के लिए Advance technology चाहिए था जो उस time में नहीं था|


Fifth Generation – Artificial Intelligence

Fifth generation computer की शुरुआत 1980 से हुई थी और ये ULSI (Ultra Large Scale Integration) तकनीक पर आधारित है|

इस Generation के computer के Microprocessor Chips में लगभग 10 लाख Electronic components होते हैं|

जो आप अपने घर में computer और mobile use करते है यहाँ तक की जो super computer होते है वो सब Fifth generation computer में आते है|

Fifth computers generation बहुत से types के digital computer आते है|

Few Examples are:

  1. Desktop
  2. Laptop
  3. Ultra-book
  4. Chromebook

 

Fifth generation computing Processing Hardware और Artificial Intelligence पर based है जिसे engineer आज भी develop कर रहे है|

Artificial intelligence क्या है?Artificial Intelligence

Artificial intelligence (AI) में machine को ऐसा बनाया जाता है को मानव लो तरह सोच सके|

जिस तरह से मानव किसी चीज़ को हालत और सही समाज के काम करते है वैसे ही machine भी मानव की तरह सोच कर काम करे|

For example:

  • Quantum computer
  • DNA computing
  • Optical computer
  • Parallel processing

 

Artificial intelligence सिखने आपको programming language का knowledge होना जरुरी है|

निचे जितने भी High level language है सभ Artificial intelligence के लिए use होते है|

  1. Python
  2. R
  3. Lisp
  4. Prolog
  5. JAVA

 

Fifth generation computer के गुण|

🔘 इस पीढ़ी के computer में ULSI technology पर काम होता है|

🔘 इस पीढ़ी के computer में Artificial Intelligence का उपयोग किया गया है।

🔘 इस पीढ़ी के computer में high level programming language use होता है|

🔘 पांचवी पीढ़ी के computer में GUI (Graphical user interface) का use होता है|

🔘 पांचवी पीढ़ी computer में Development Parallel Processor होता है means एक साथ बहुत से काम|

 

Advantage:

✔️ इसमें कोई भी work सब से fast होता है|

✔️ इस पीढ़ी के computer हर sizes और unique features के साथ बनता है|

✔️ इस पीढ़ी के computer बहुत user-friendly होता है|

 

Disadvantages:

❌ इस पीढ़ी के computer के से आज से लोग बेरोजगार हो रहे और आगे भी होंगे|

❌ आने वाले time के computer मानव के लिए घातक भी हो सकते है|

 

Conclusion

आपको ये लेख Generation of Computer in Hindi और Computer का इतिहास क्या है (History of Computer in Hindi) कैसा लगा|

आप निचे comment box में अपना सुझाव दे सकते है|

अगर ये लेख आपको अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ share करे|

साथ ही इसे social media (Facebook, Twitter) पर भी share करे जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसके बारे में जानकारी हो|

और ऐसे ही information पाने के लिए आप इस website पर regular visit करते रहे|

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0 Shares